शमा गुल हो गयी दिल बुझ गया परवाने का – Yaas Yagana Changezi

सिलसिला छिड़ गया जब यास के फ़साने का
शमा गुल हो गयी दिल बुझ गया परवाने का

वाए हसरत कि ताल्लुक़ न हुआ दिल को कहीं
न तो काबे का हुआ मैं न तो सनम-खाने का

खिल्वत-ए-नाज़ कुजा और कुजा अहल-ए-हवस
ज़ोर क्या चल सके फ़ानूस से परवाने का

वाह किस नाज़ से आता है तेरा दौर-ए-शबाब
जिस तरह दौर चले बज़्म में परवाने का

Advertisements

Mujhe Dil Kii Khataa Par – Yaas Yagana Changenzi

mujhe dil kii Khataa par ‘Yaas’ sharmaanaa nahii.n aataa
paraayaa jurm apane naam likhavaanaa nahii.n aataa

buraa ho paa-e-sar_kash kaa ki thak jaanaa nahii.n aataa
kabhii gum_raah ho kar raah par aanaa nahii.n aataa

mujhe ai naaKhudaa aaKhir kisii ko muu.Nh dikhaanaa hai
bahaanaa kar ke tanhaa paar utar jaanaa nahii.n aataa

musiibat kaa pahaa.D aaKhir kisii din kaT hii jaayegaa
mujhe sar maar kar teshe se mar jaanaa nahii.n aataa

asiiro shauq – e -aazaadii mujhe bhii gud gudaataa hai
magar chaadar se baahar paa.Nv phailaanaa nahii.n aataa

dil-e-behausalaa hai ik zaraa sii Tiis kaa meh maa.N
vo aa.Nsuu kyaa piyegaa jis ko Gam khaanaa nahii.n aataa

इल्म क्या इल्म की हकीक़त क्या – Yaas Yagana Changezi

किसकी आवाज़ कान में आई
दूर की बात ध्यान में आयी

आप आते रहे बुलाते रहे
आने वाली एक आन में आयी

यह किनारा चला कि नाव चली
कहिये क्या बात ध्यान में आयी!

इल्म क्या इल्म की हकीक़त क्या
जैसी जिसके गुमान में आयी

आँख नीचे हुई अरे यह क्या
यूं गरज़ दरम्यान में आयी

मैं पयम्बर नहीं यगाना सही
इस से क्या कसर शान में आयी